देश

पूर्व नौकरशाहों ने पीएम मोदी को लिखा खुला खत, ‘सरकार मूल ज़िम्मेदारियों को पूरा करने में भी नाकाम’

unnao-kathua-rape-case-protest-reuters_650x400_51523808212
Written by Taasir Newspaper

खास बातें

  1. कठुआ और उन्नाव की घटनाएं बहुत दर्दनाक
  2. पत्र में लिखा, ये हमारा सबसे काला दौर
  3. लिखा, पीड़ित परिवारों से माफ़ी मांगें

नई दिल्ली: कठुआ और उन्नाव रेप के विरोध में पूरे देश में लोगों का गुस्सा उबाल पर है. न्याय के लिए देश में लोग जगह-जगह विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. इन सबके बीच रविवार को देश के 49 रिटायर नौकरशाहों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुला खत लिखा है. खत में लिखा गया है कि कठुआ और उन्नाव की दर्दनाक घटनाएं दिखाती हैं कि सरकार अपनी बहुत ही मूल ज़िम्मेदारियों को पूरा करने में भी नाकाम रही है. ये हमारा सबसे काला दौर है और इससे निपटने में सरकार और राजनीतिक पार्टियों की कोशिश बहुत ही कम और कमज़ोर है.

पत्र में आगे लिखा गया है कि नागरिक सेवाओं से जुड़े हमारे युवा साथी भी लगता है अपनी ज़िम्मेदारियों को पूरा करने में नाकाम रहे हैं. इस पत्र में प्रधानमंत्री से कहा गया है कि वो कठुआ और उन्नाव में पीड़ित परिवारों से माफ़ी मांगें और मामलों की फास्ट ट्रैक जांच करवाएं. पत्र में यह भी मांग की गई है कि प्रधानमंत्री नफ़रत भरे भाषणों और अपराधों से जुड़े लोगों को अपनी सरकार से हटाएं और इस पूरे मसले पर एक सर्वदलीय बैठक बुलाएं.

गौरतलब है कि पिछले दो हफ्तों में गैंगरेप और हत्या के दो मामलों ने पूरे देश को सकते में डाल दिया है. पिछले हफ्ते रविवार को यूपी के उन्नाव की एक महिला ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश की थी. महिला का आरोप था कि बीजेपी विधायक ने उसके साथ रेप किया है. पूरे देश में इस मुद्दे पर चर्चा और विरोध के बाद आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को गिरफ्तार कर सीबीआई रिमांड पर भेज दिया गया है.
वहीं, दूसरा सनसनीखेज मामला जम्मू कश्मीर के कठुआ से सामने आया. जहां 8 साल की बच्ची की अपहरण के बाद कई दिनों तक गैंगरेप करने के बाद हत्या कर दी गई. वहीं, एक दिन पहले गुजरात के सूरत में एक 9 साल की बच्ची का शव बरामद हुआ. उसके शरीर पर 100 के करीब चोट के निशान थे. इसे देखते हुए लोगों का गुस्सा चरम पर है. देश के कई शहरों में लोग सड़कों पर विरोध प्रदर्शन कर न्याय की मांग कर रहे हैं. मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शुक्रवार को अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा था कि कोई भी अपराधी बचेगा नहीं, न्याय होगा और पूरा होगा.

पीएमओ इंडिया के ट्वीट के अनुसार पीएम मोदी ने कहा, ‘जिस तरह की घटनाएं हमने बीते दिनों में देखीं हैं, वो सामाजिक न्याय की अवधारणा को चुनौती देती हैं. पिछले 2 दिनों से जो घटनाएं चर्चा में हैं वो निश्चित रूप से किसी भी सभ्य समाज के लिये शर्मनाक हैं. एक समाज के रूप में, एक देश के रूप में हम सब इसके लिए शर्मसार हैं.’

About the author

Taasir Newspaper