विदेश

Omar Khayyam 971st Birthday: कवि, फिलोसोफर, गणितज्ञ और ज्योतिर्विद थे उमर खय्याम, गूगल ने डूडल से बनाया 971वां जन्मदिवस

Untitled-6 copy
Written by Taasir Newspaper

Taasir Hindi News Network | Uploaded on 18-May-2019

निशाबुर: Omar Khayyam Google Doodle: गूगल ने आज उमर खय्याम का डूडल (Omar Khayyam) बनाया. उमर खय्याम बहुत ही प्रसिद्ध पारसी कवि, फिलोसोफर, गणितज्ञ और ज्योतिर्विद थे. गूगल आज उमर खय्याम की 971वीं जयंती (Omar Khayyam 971st Birthday) मना रहा है. उमर खय्याम का जन्म 18 मई 1048 को उत्तर पूर्वी ईरान के निशाबुर (निशापुर) में एक खेमा बनाने वाले परिवार में हुआ था.

उमर खय्याम (Omar Khayyam Persian Mathematician) को कई गणितिय और विज्ञान की खोज के लिये जाना जाता है. इसके साथ ही उन्हें जलाली कैलेंडर (Jalali calendar) को शुरू करने का श्रेय भी जाता है. जलाली कैलेंडर एक सौर कैलेंडर (Solar Calendar) है, जिसे जलाली संवत (Jalali Sanvat) या सेल्जुक संवत भी कहा जाता है. ये कैलेंडर बाकी कैलेंडर का आधार बना. ये जलाली कैलेंडर आज भी इरान और अफगानिस्तान में इस्तेमाल किया जाता है.

फिलोसोफर और गणितज्ञ के आलावा उमर खय्याम का साहित्य (Omar Khayyam Book) में भी काफी योगदान रहा. उनकी कविताएं और रुबायत लिखीं, जो कि आज भी बेहद पसंद की जाती हैं. विदेशों में उनकी लिखी हुई किताब रुबायत ऑफ उमर खय्याम (Rubaiyay of Omar Khayyam) बहुत प्रसिद्ध है, इस किताब को एडवर्ड फिट्जगेराल्ड (Edward Fitzgerald) ने अनुवाद किया.

उमर खय्याम (Omar Khayyam) बहुत प्रसिद्ध विद्वान भी थे, अपने ज्ञान की वजह से वह खोरासाम प्रांत के मलिक शाह-1 के दरबारी ज्योतिर्विद और सलाहकार भी रहे. उन्होंने अल्जेब्रा (Algebra) में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है. उन्होंने द्विपद गुणांक और पास्कल त्रिकोण की त्रिकोणीय सरणी की भी स्थापना की. इतना ही नहीं उमर खय्याम ने संगीत और अल्जेब्रा पर अंकगणित की समस्याएं (Problems of Arithmetic) नाम से एक किताब भी लिखी.

About the author

Taasir Newspaper