राजनीति

प्रियंका गांधी का मोदी सरकार पर निशाना- ‘भयंकर मंदी’ पर सरकार की चुप्पी खतरनाक, इसके लिए जिम्मेदार कौन?

priyanka gandhi
Written by Taasir Newspaper

Taasir Hindi News Network | Uploaded on 19-August-2019

नई दिल्ली: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने अर्थव्यवस्था में सुस्ती को लेकर सोमवार को सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि इस ‘भयंकर मंदी’ पर सरकार की चुप्पी खतरनाक है. उन्होंने सवाल किया कि इस स्थिति के लिए कौन जिम्मेदार है? प्रियंका ने ट्वीट किया, ‘सरकार की घोर चुप्पी खतरनाक है. कंपनियों का काम चौपट है. लोगों को काम से निकाला जा रहा है, भाजपा सरकार मौन है. आखिर देश में इस भयंकर मंदी का जिम्मेदार कौन है?

इससे पहले उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा था, ‘देश का आम नागरिक भाजपा सरकार के शीर्ष नेताओं से, वित्त मंत्री से इस भयंकर मंदी पर भी कुछ सुनना चाहता है.’ प्रियंका ने अखबारों में छपी कुछ खबरें भी शेयर कीं, जिसके मुताबिक वाहनों की बिक्री में काफी गिरावट दर्ज की गई है और ऑटो क्षेत्र में 10 लाख से अधिक लोगों की नौकरी जाने का खतरा है तथा कई कंपनियों ने छंटनी शुरू कर दी है.

इससे पहले प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को सरकार पर निशाना साधते हुए पूछा कि आखिर किस आधार पर जम्मू कश्मीर में उनकी पार्टी के नेताओं को हिरासत में लिया गया है.    शुक्रवार को प्रदेश कांग्रेस इकाई को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करने से रोके जाने के बाद उन्होंने पूछा कि क्या मीडिया से बात करना गुनाह है. पुलिस ने पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रवींद्र शर्मा को हिरासत में ले लिया है और जम्मू कश्मीर के इसके अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर को नजरबंद किया है.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘किस आधार पर जम्मू कश्मीर में कांग्रेस नेताओं को गिरफ्तार किया गया? क्या मीडिया से बात करना गुनाह है? जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री, जो भारत के संविधान का सम्मान तथा उसका पालन करते हैं, उन्हें हिरासत में 15 दिन हो गये हैं.’ हैशटैग ‘‘स्टॉप इलीगल अरेस्ट इन कश्मीर”से उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘यहां तक कि उनके परिवार वालों को भी उनसे बात करने की इजाजत नहीं है. क्या मोदी-शाह सरकार यह मानती है कि भारत अब भी लोकतंत्र है?

इससे पहले वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी चिदम्बरम ने पार्टी के जम्मू कश्मीर प्रमुख गुलाम अहमद मीर को हिरासत में लिये जाने की आलोचना करते हुए शनिवार को इसे ‘बिल्कुल गैरकानूनी’ करार दिया. उन्होंने उम्मीद जतायी कि अदालतें इस मामले का संज्ञान लेंगी. अपने कई ट्वीट में पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि मीर शुक्रवार से जम्मू में अपने घर में नजरबंद हैं. उन्होंने ट्वीट किया, ‘हिरासत में लेने का कोई लिखित आदेश नहीं था. बिल्कुल गैरकानूनी है… मैं उम्मीद करता हूं कि अदालतें कदम उठाएंगी और नागरिकों की आजादी की सुरक्षा करेंगी.

About the author

Taasir Newspaper