देश

Dahi Handi 2019: जन्माष्टमी पर मुंबई में ऐसे मनाया जा रहा है दही हांडी का जश्न

Untitled-6 copy
Written by Taasir Newspaper

Taasir Hindi News Network | Uploaded on 24-August-2019

Dahi Handi 2019: भगवान कृष्ण का 5246वां जन्मोत्सव (Krishna Janmashtami) मनाया जा रहा है. बाल गोपाल कृष्ण का जन्म शास्‍त्रों के अनुसार चन्द्रोदय के समय भाद्रपद कृष्ण अष्टमी तिथि (Gokulashtami) को मनाया जाता है. जो कि इस बार 23 अगस्त को है. मुंबई में दही हांडी का जश्न जोरों-शोरों से मनाया जा रहा है. जन्माष्टमी के मौके पर कई जगहों पर श्रीकृष्ण (Lord Krishna) की झाकियां भी निकाली गईं. मुंबई के दादर में धूमधाम से दही हांडी का जश्न मना. जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

गुजरात और महाराष्ट्र में जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami 2018) के मौके पर दही हांडी की प्रथा के साथ यह पर्व को मनाया जाता है.  कई हिन्दी फिल्मों और गानों में दही हांडी (Dahi Handi 2018) के सीन को आपने कई बार देखा होगा. लड़कों का ग्रुप कम्पाउंड में इकट्ठा होता है और एक पिरामिड बनाकर जमीन से 20-30 फुट ऊंचाई पर लटकी मिट्टी की मटकी को तोड़ते है.

श्रीकृष्ण को कहा जाता है ‘माखन चोर’
अपने बचपन में श्रीकृष्ण बेहद ही नटखट थे, पूरे गांव में उन्हें उनकी शरारतों के लिए जाना जाता था. श्रीकृष्ण को माखन, दही और दूध काफी पंसद था. उन्हें माखन इतना पंसद था जिसकी वजह से पूरे गांव का माखन चोरी करके खा जाते थे. इतना ही उन्हें माखन चोरी करने से रोकने के लिए एक दिन उनकी मां यशोदा को उन्हें एक खंभे से बांधना पड़ा और इसी वजह से भगवान श्रीकृष्ण का नाम ‘माखन चोर’ पड़ा.

क्यो मनाया जाता है दही-हांडी का उत्सव?
वृन्दावन में महिलाओं ने मथे हुए माखन की मटकी को ऊंचाई पर लटकाना शुरू कर दिया जिससे की श्रीकृष्ण का हाथ वहां तक न पहुंच सके. लेकिन नटखट कृष्ण की समझदारी के आगे उनकी यह योजना भी व्यर्थ साबित हुई. माखन चुराने के लिए श्रीकृष्ण अपने दोस्तों के साथ मिलकर एक पिरामिड बनाते और ऊंचाई पर लटकाई मटकी से दही और माखन को चुरा लेते थे. वहीं से प्रेरित होकर दही हांडी का चलन शुरू हुआ. दही हांडी के उत्सव के दौरान लोग गाने गाते हैं जो लड़का सबसे ऊपर खड़ा होता है उसे गोविंदा कहा जाता है और ग्रुप के अन्य लड़कों को हांडी या मंडल कहकर पुकारा जाता है.

About the author

Taasir Newspaper