विदेश

अमेरिका की मदद के लिए हमने ही प्रशिक्षित किया था मुजाहिदीन को : पाक PM इमरान खान

imran-810x456
Written by Taasir Newspaper

Taasir Hindi News Network | Uploaded on 13-September-2019

पाकिस्तान: क्रिकेटर से राजनेता और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने इमरान खान ने कबूल किया है कि उनके मुल्क ने ही आतंकवादियों को प्रशिक्षित किया था, लेकिन वे आतंकवादी नहीं जेहादी थे. उन्होंने अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना की मौजूदगी पर सवाल उठाते हुए शुक्रवार को कहा कि सोवियत संघ द्वारा अफगानिस्तान पर कब्ज़ा कर लिए जाने के बाद उनके मुल्क ने अमेरिकी जासूसी एजेंसी CIA की मदद से जेहादियों को प्रशिक्षण दिया था. इसके 10 साल बाद अमेरिका वहां पहुंचा, और जब उन्हें लम्बे संघर्ष के बाद भी कामयाबी हासिल नहीं हो पाई, तो मुजाहिदीन को आतंकवादी करार दिया गया, और हमें दोषी ठहराया जा रहा है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा, “80 के दशक में हम इन मुजाहिदीन को सोवियत यूनियन के खिलाफ जेहाद के लिए प्रशिक्षित कर रहे थे, जब उन्होंने अफगानिस्तान पर कब्ज़ा कर लिया था… सो, इन लोगों को पाकिस्तान ने प्रशिक्षण दिया है, और इन्हें अमेरिका की जासूसी एजेंसी CIA ने माली मदद मुहैया करवाई…”

उन्होंने कहा, “इसके एक दशक के बाद जब अमेरिकन अफगानिस्तान में आए, तो वे सभी गुट, जो पाकिस्तान में हैं, वे कह रहे हैं कि चूंकि अमेरिकन वहां (अफगानिस्तान में) आ गए हैं, तो अब यह जेहाद नहीं, आतंकवाद बताया जा रहा है… यह बड़ा विरोधाभासी है, और मुझे लगता है कि पाकिस्तान को तटस्थ रहना चाहिए था, क्योंकि इनमें शामिल होने की वजह से यही मुजाहिदीन गुट हमारे खिलाफ हो गए हैं…”

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा, “हमने भी अपने 70,000 लोग खोए हैं, हमने अपनी अर्थव्यवस्था से 100 अरब डॉलर से ज़्यादा गंवा दिए… अंत में, हमें ही अफगानिस्तान में अमेरिका के कामयाब नहीं होने के लिए दोषी करार दिया गया… मुझे लगता है कि यह पाकिस्तान के साथ बहुत नाइंसाफी है…”

About the author

Taasir Newspaper