देश

अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किए कई ऐलान, निर्यात बढ़ाने पर दिया जोर

Nirmala Sitharaman
Written by Taasir Newspaper

Taasir Hindi News Network | Uploaded on 14-September-2019

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा, ‘महंगाई की दर 4 फीसदी नीचे है. मुद्रास्फीति नियंत्रण में है. आज, हम कर-संबंधी सुधार उपायों, निर्यात और घर-खरीदारों पर विचार करेंगे.’ सीतारमण का कहना है कि अर्थव्यवस्था के पुनरुद्धार का स्पष्ट संकेत है. सीतारमण ने कहा, ‘हम रिएल एस्टेट के लिए कदम उठाएंगे. हमारा लक्ष्य अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाना है. बैंकिंग क्षेत्र में असर दिख रहा है. 19 को बैंक अधिकारियों की बैठक है. हम निर्यात बढ़ाने के लिए कदम उठाएंगे.’  सीतारमण ने कहा, ‘बैंकों से ऋण के प्रवाह में वृद्धि और सुधार हुआ है. सभी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (PSB) के प्रमुखों से क्रेडिट फ्लो सिस्टम पर मुलाकात करेंगे.

सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने कहा कि सीपीआई कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स कंट्रोल में है और महंगाई दर कम है. IP नंबर्स भी बेहतर हैं. फिस्कल डेफिसिट 2018-19 3.4 फीसदी पर है. पार्शियल क्रेडिट गारंटी स्कीम इम्पलीमेंट हो चुकी है. बैंकों ने अब रेपो रेट से ईएमआई लिंक करनी शुरू कर दी है. 19 सितंबर को बैंकों के चीफ के साथ बैठक है जिसमें इसको लेकर रिपोर्ट मांगी जाएगी.

उन्होंने कहा कि 12 सितंबर से ई असेसमेंट स्कीम को लागू किया जा चुका है. डीआईएन यानी डॉक्यूमेंट आइडेंटिफिकेशन नंबर 14 अगस्त से लागू हो चुका है यानी कोई अधिकारी अब आपको पेपर्स के लिए परेशान नहीं कर सकता. औद्योगिक उत्पादन में इस वर्ष की पहली तिमाही में सुधार नजर आ रहा है.

उन्होंने कहा कि ई असेसमेंट स्कीम को 12 सितम्बर को नोटिफाई कर दिया गया है. छोटे टैक्सपेयर्स को छोटी मोटी प्रोसीज़रल गलतियों के लिए प्रोसीक्यूट नहीं किया जाएगा. 9 सितम्बर को ये आदेश नोटिफाई किया गया.

सीतारमण ने कहा कि ‘टाइम टू एक्सपोर्ट’ यानी निर्यात की प्रक्रिया के दौरान लगने वाले समय को कम करने की कोशिश की जा रही है. इसमें तकनीकी का इस्तेमाल किया जाएगा. एक्शन प्लान के जरिए एयरपोर्ट और पोर्ट में लगने वाले समय को कम किया जाएगा. इसकी निगरानी मंत्री समूह करेगा.

About the author

Taasir Newspaper