राजनीति

महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर Congress-NCP में बैठकों का दौर जारी, आज हो सकती स्थिति साफ, 10 बड़ी बातें

Untitled-4 copy
Written by Taasir Newspaper

Taasir Hindi News Network | Uploaded on 12-Nov-2019 

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में सरकार गठन की गहमा गहमी समय के साथ बढ़ती ही जा रही है. शिवसेना के 24 घंटे पूरे होने के बाद राज्यपाल ने एनसीपी को सरकार बनाने के लिए आमंत्रण भेजा. जानकारी के मुताबिक आमंत्रण मिलने के बाद एनसीपी के नेता राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की. एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि राज्यपाल द्वारा पत्र मिला है, हम अपने गठबंधन के साथी कांग्रेस से चर्चा कर अंतिम फैसला लेंगे. उन्होंने कहा कि हम कोशिश करेंगे कि राज्य में स्थिर सरकार बनाने के लिए उचित कदम उठाया जाएगा. बता दें कि इससे पहले राज्यपाल से मुलाकात के दौरान शिवसेना के आदित्य ठाकरे ने राज्यपाल को भरोसा दिलाया था कि वह राज्य में सरकार बनाने की स्थिति है और उसे 48 घंटे की मोहलत दी जाए.

  1. NCP आज सुबह 11 बजे एक बैठक बुला सकता है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे भी कर सकते हैं शरद पवार से मुलाकात.
  2. NDTV से बातचीत में कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है. क्योंकि एनसीपी और कांग्रेस शिवसेना के साथ जाने को तैयार नहीं दिख रहे हैं. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि दोनों पार्टियां राज्य में राष्ट्रपति शासन के पक्ष में भी नहीं हैं.
  3. शिवसेना के नेता आदित्य ठाकरे ने सोमवार शाम राज्यपाल से मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने दावा किया कि वह राज्य में सरकार बनाने की स्थिति में हैं. साथ ही उन्होंने 48 घंटे की मोहलत मांगी है.
  4. कांग्रेस शिवसेना को समर्थन देने का खुलकर विरोध भी नहीं कर रही है. पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने कहा है अंतिम निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले पार्टी  अध्यक्ष सोनिया गांधी शरद पवार से बात करेंगी.
  5. राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश करने से पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार से एक होटल में मुलाकात की.
  6. सोनिया गांधी ने एनसीपी के साथ बैठक में साफ किया था कि उनकी पार्टी शिवसेना को साफ तौर पर समर्थन देने से बचेगी.
  7. बीजेपी ने पहले ही राज्य में सरकार बनाने से मना कर दिया है. बीजेपी के इस ऐलान के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस्तीफा दे दिया था.
  8. शिवसेना और बीजेपी का एक साथ न आने की वजह से राज्य में 30 साल से ज्यादा समय तक चली दोस्ती को आगे जारी नहीं रख पाई. आखिरकार दोनों का गठबंधन टूट गया.
  9. एनसीपी ने शिवसेना को समर्थन देने से पहले रखी थी एनडीए से अलग होने की शर्त. इसके बाद ही शिवसेना के एक मात्र मंत्री ने मोदी सरकार से इस्तीफा दे दिया था.
  10. महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर अगले 24 से 48 घंटे में स्थिति साफ हो पाएगी. फिलहाल ऐसा माना जा रहा है कि शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी की मदद से सरकार बनाने के करीब है.

About the author

Taasir Newspaper