राजनीति

शायर इमरान प्रतापगढ़ी एवं डॉ कन्हैया कुमार ने लखमिनिया की जनता को संबोधित किया।

kanehya kumar
Written by Taasir Newspaper

Taasir Hindi News Network | Uploaded on 17-Jan-2020 

बलिया(बेगूसराय): इमरान प्रतापगढ़ी ने कार्यक्रम में उपस्थित  जनता को संबोधित करते हुए कहा कि सीएए, एनआरसी व एनपीआर के कानून को लागू करके देश के भाई चारा को नुकसान पहुंचाए जाने की कोशिश की जा रही है।गरीब के पास रहने को घर नहीं है , वह जमीनों के कागजात कहां से दिखाएगा।देश के पढ़े लिखे लोगों को रोजगार नहीं मिल रहा है ।यह सब से बड़ी समस्या है सरकार नौजवानो को रोजगार दे।

साथ ही अगर यह काला कानून लागू होता है तो लाखों करोड़ों लोग जो सड़कों पर अपनी जिंदगी बिताते हैं। वह कहां से अपने आप को साबित करेंगे क्योंकि उनके पास तो कोई कागजात नहीं है। इस तरह के कानून को लागू करके कहीं ना कहीं एक बड़ी आबादी को डिटेंशन सेंटर भेजने की तैयारी की जा रही। केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि यह सरकार बेरोज़गारी पर बात नहीं करती है बल्कि हमेशा ऐसे मुद्दों पे बात करती जिससे जनता असली मुद्दों से भटक जाती है। वहीं दुसरी ओर कन्हैया कुमार ने कांग्रेस पर कसा तंज कहा वर्ष 2003 में एनपीआर कानून लाने वाले अटल सरकार का अगर विपक्ष ख़िलाफ़ करती तो शायद आज लोगों को ये परेशानी नहीं होती।

कन्हैया कुमार यह बातें उस वक़्त कही जब बेगूसराय जिले के लखमिनियाँ गांव में CAA और NPR ख़िलाफ़ अनिश्चितकालील धरने चल रही थी।

जानकारी के मुताबिक़ लखमिनियाँ गांव में 6 दिन से    CAA और NPR के ख़िलाफ़ भारी संख्या में महिला,पुरुष,

अनिश्चितकालील धरने में बैठे थे। तभी बेगूसराय लोकसभा के पूर्व प्रत्याशी व जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष डॉ. कन्हैया कुमार ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि CAA और NPR का पूरे मुस्तैदी के साथ विरोध करें।और अपने-अपने घरों में NPR के लिए आने वाले  सरकारी कर्मचारियों के लिए एनपीआर बॉयकॉट लिख दें ।ताकि दूर से ही एनपीआर वाले भाग जाएं।जब कर्मचारी आपके  दादा जी,दादी जी,की पैदाइश या जन्म तिथि पूछे तो उसे आप कर्मचारी के नानी की पैदाइश तारीख, और  नाम ज़रूर पूछे।अगर वह कर्मचारी नहीं बताए तो उसको बाहर का रास्ता दें।इस मौके पर बलिया नगर पंचायत के उपमुख्य पार्षद जावेद अख्तर, पूर्व विधायक समसु जोहा,इंद्रदेव राम,सबाब फहीम,मशकूर आलम,फैजुर रहमान, मो.सोहेल, मो.ईमरान, समेत हजारों लोग मौजूद थे।

About the author

Taasir Newspaper