बिहार राज्य राजनीति

हिन्दू विरोध की नीति के कारण सीएए का विरोध कर रहे हैं राजद-कांग्रेस: राजीव रंजन

rajiv ranjan
Written by Taasir Newspaper

Taasir Hindi News Network | Uploaded on 18-Jan-2020 

पटना: कांग्रेस-राजद को हिन्दू विरोधी पार्टी बताते हुए भाजपा प्रवक्ता व पूर्व विधायक श्री राजीव रंजन ने कहा “ हमेशा अपने बयानों हिन्दू समाज को नीचा दिखाने की कोशिश करने वाले कांग्रेस-राजद और इनके सहयोगीयों के रग-रग में देश के बहुसंख्यक समाज के प्रति घृणा भरी हुई है. नागरिकता संशोधन कानून पर इनका झूठा प्रलाप इनकी इसी ओछी राजनीति की एक और कड़ी है. दरअसल इस कानून के जरिये जिन शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देने का प्रावधान किया गया है, उसमें एक बड़ी संख्या हिन्दुओं की है. यही वजह है कि कांग्रेस-राजद समेत इनके सारे सहयोगी इस कानून के खिलाफ अपनी छाती पीट रहे हैं. इस कानून के खिलाफ चल रहे प्रदर्शनों में लग रहे नारों और चमकाए जा रहे पोस्टरों को देखिये तो बहुसंख्यकों के प्रति इनकी घृणा साफ़ झलकती है. याद करें तो यह वही कांग्रेस है जिसके नेता राम मन्दिर के खिलाफ कोर्ट में खड़े थे. इन्होने ही अपने राज में कभी भगवान श्री राम को एक काल्पनिक पात्र करार दिया था. राजनाथ सिंह जी द्वारा राफेल पर ॐ लिखने से सबसे ज्यादा चिढ़ इसी कांग्रेस को हुई थी. यह कांग्रेस ही थी, जिनके नेताओं ने हिन्दू आतंकवाद का शिगूफा गढ़ा था. यह इनके नेता ही थे जिन्होंने 26/11 के मुम्बई हमले को आरएसएस की साजिश बताया था. यह तो भला हो कि उन हमलों में कसाब जिन्दा पकड़ा गया नही तो हिन्दू आतंकवाद का झूठ फ़ैलाने का इन्होने पूरी तैयारी कर रखी थी. आज भी इनके नेता बार-बार भगवा आतंकवाद का शब्द इस्तेमाल करते हैं, लेकिन किसी आतंकी घटना में दुसरे धर्म का नाम आने के बाद यही लोग आतंक का कोई मजहब नही होता का राग अलापने लगते हैं. वास्तव में वोटबैंक की राजनीति इन दलों के रग-रग में बसी हुई है. सत्ता के सामने न तो इन्हें देश की सुरक्षा नजर आती है और न ही समाज का सद्भाव. इनकी नीति रही है कि हिन्दुओं को जाति के नाम पर बांटो और एक दुसरे धर्म विशेष का तुष्टिकरण करते रहो. इसीलिए रोहिंगिया घुसपैठियों का समर्थन करने वाले यह लोग हिन्दू शरणार्थियों का विरोध कर रहे हैं. बहरहाल राजद-कांग्रेस यह जान ले कि इन शरणार्थियों का विरोध कर उन्होंने खुद से अपने पांवों पर कुल्हाड़ी मार ली है. आने वाले समय में उन्हें इसका खामियाजा जरुर भुगतना पड़ेगा.”

About the author

Taasir Newspaper