उत्तर प्रदेश

युवा देश की सांस्कृतिक विरासत को आगे बढ़ाने में योगदान दे : राज्यपाल

Taasir Newspaper
Written by Taasir Newspaper

Taasir Hindi News Network | Lucknow (Uttar Pradesh) on 15-April-2021

महात्मा ज्योतिबा फुले रूहेलखण्ड विश्वविद्यालय बरेली के एमबीए हाल में आयोजित 18वें दीक्षांत समारोह में गुरुवार को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने वर्चुअल सहभागिता कीं। राज्यपाल ने कहा कि युवा संसाधन के रूप में अवसर है। आप देश के सांस्कृतिक व भौतिक विरासत को अक्षुण्ण बनाये रखते हुए देश को आगे ले जाने में अपना योगदान दें। इस मौके पर उन्होंने नब्बे मेधावियों को आनलाइन उपाधियां प्रदान की। उन्होंने कहा कि वर्तमान वैश्विक महामारी कोरोना की दूसरी लहर बहुत तेजी से बढ़ रही है, हम सभी को इस महामारी के संक्रमण से बचने के लिए सभी जरूरी उपाय करना चाहिए। छात्र-छात्राओं से कहा कि वे वैश्विक चुनौतियों के समय में शिक्षा जगत में हो रहे परिवर्तन पर अपना ध्यान केन्द्रित करते हुए अर्जित किए हुए ज्ञान को जनकल्याण के लिये यथार्थ के धरातल पर रूपान्तरित करने की कला को विकसित करें। कहा, यह विश्वविद्यालय महान समाज सुधारक महात्मा ज्योतिबा फूले के नाम पर स्थापित है, जिन्होंने शिक्षा के साथ-साथ समता, समरसता, सौहार्द एवं सामाजिक न्याय पर अत्यधिक बल दिया था। उनके महान आदर्शों का पालन करना चाहिये। राज्यपाल ने प्रसन्नता व्यक्त की कि रूहेलखण्ड विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश का एक ऐसा विश्वविद्यालय है जिसने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को अंगीकार करते हुए वृहद रूप से क्रियान्वयन प्रारम्भ किया तथा अपने दृृढ़ निश्चय, दूर दृष्टि, लगन, कर्मठता एवं कार्यप्रणाली से इस विश्वविद्यालय ने देश एवं प्रदेश में अपनी एक अलग पहचान बनायी है। राज्यपाल ने अपेक्षा की कि संक्रामक रोगों और वैश्विक बीमारी के परिदृश्य को देखते हुए विश्वविद्यालय रोगों के निदान, कारणों, वैक्सीनोलोजी व अन्य प्रासंगिक रोगों का निदान के लिए नेतृत्व करेंगें। उन्होंने कहा कि कोरोना के विरूद्ध प्रतिरक्षण की हमारी लड़ाई जारी है। सभी छात्र-छात्राओं, अभिभावकों तथा विश्वविद्यालय परिवार की जिम्मेदारी बनती है कि कोरोना से बचाव के लिए ग्राम स्तर पर जन जागरूकता अभियान चलायें तथा अधिक से अधिक लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करें। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. के.पी. सिंह ने बताया कि डिग्री के बढ़ते हुए दुरूपयोग के कारण आज यहां दी गयी डिग्री में सिक्योरिटी फीचर बढ़ा दिये है तथा विश्वद्यालय में फार्मेसी विभाग को भी आई.टी. में शामिल कर दिया गया है। अब नई डिग्री में कुलपति के साथ-साथ परीक्षा नियंत्रक के भी हस्ताक्षर होगें। प्रो. के.पी. सिंह ने बताया कि टीकाकरण उत्सव में विश्वविद्यालय स्टाफ के अलावा आस-पास के गांव के 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का टीकाकरण किया गया। दीक्षांत समारोह में प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डाॅ. दिनेश शर्मा, राज्यमंत्री उच्च शिक्षा एवं विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी नीलिमा कटियार, प्रो. रविकांत, विश्वविद्यालय के सभी शिक्षक, अधिकारी एवं कर्मचारी ऑनलाइन जुड़े रहे।

About the author

Taasir Newspaper

Taasir Newspaper