New Delhi

‘सुल्ली डील’ मामले में 10 ट्विटर अकाउंट की पहचान

Taasir Newspaper
Written by Taasir Newspaper
TAASIR HINDI NEWS NETWORK ABHISHEK SINGH 

नई दिल्ली, 12 जनवरी 

दिल्ली पुलिस की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस (आईएफएसओ) यूनिट की लगातार पूछताछ के दौरान ‘सुल्ली डील’ मामले में 10 संदिग्ध ट्विटर अकाउंट का पता चला है। इन अकाउंट के बारे में पकड़े गए आरोपित ओंकारेश्वर ठाकुर ने पुलिस को जानकारी दी है।

इस आधार पर अब स्पेशल सेल की तरफ से ट्विटर के अधिकारियों को एक पत्र लिखा गया है और इन 10 अकाउंट की डिटेल मांगी गई है। वहीं सूत्रों की माने तो अगर पुलिस को डिटेल मिल जाती है तो इन आरोपितों की भूमिका के बारे में पता लगाया जाएगा।

जानकारी के अनुसार, बीते जुलाई महीने में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने ‘सुल्ली डील’ एप मामले को लेकर एक एफआईआर दर्ज की थी। उक्त वेबसाइट पर मुस्लिम महिलाओं की तस्वीर लगाकर उनकी बोली लगाई जाती थी।

इस मामले की जांच के दौरान पुलिस को कोई अहम सुराग नहीं मिला था, लेकिन हाल ही में उन्होंने ‘बुल्ली बाई एप’ बनाने वाले नीरज बिश्नोई को असम से गिरफ्तार किया। उसने खुलासा किया कि वह ‘सुल्ली डील’ बनाने वाले को जानता है। उसने ओंकारेश्वर का ट्विटर हैंडल पुलिस को बताया जिसकी मदद से पुलिस टीम ने इंदौर से उसे भी गिरफ्तार कर लिया।

उसे कोर्ट के समक्ष पेश कर चार दिन की रिमांड पर लिया गया है, जिसकी अवधि आज समाप्त हो रही है। सूत्रों के अनुसार, पूछताछ के दौरान उसके मोबाइल से कोई खास जानकारी पुलिस को नहीं मिली है। उसके लैपटॉप का सर्विलांस अभी चल रहा है।

पूछताछ के दौरान आरोपित ने पुलिस को बताया कि उसने जुलाई के पहले सप्ताह में यह एप बनाया था और तीन दिन बाद ही उसे डिलीट भी कर दिया था। उसने ट्रेड महासभा के नाम से एक टि्वटर पर ग्रुप बनाया था जिसमें करीब 50 सदस्य थे। इनमें से 10 ट्विटर हैंडल की डिटेल उसने साइबर सेल के साथ साझा की है।

पुलिस ने जब जांच की तो पाया कि यह सभी ट्विटर हैंडल डिलीट किए जा चुके हैं।

पूछताछ में आरोपित ओंकारेश्वर ठाकुर द्वारा बताए गए टि्वटर हैंडल को लेकर पुलिस ने ट्विटर के अधिकारियों को एक पत्र लिखा है। इस पत्र के द्वारा उन 10 अकाउंट के बारे में जानकारी मांगी गई है जिनके बारे में ओमकारेश्वर ठाकुर ने खुलासा किया है।

पुलिस का कहना है कि यह लोग ‘सुल्ली डील’ मामले में अहम किरदार हो सकते हैं और अगर उनके खिलाफ कोई साक्ष्य मिलता है तो उनकी गिरफ्तारी भी हो सकती है।

  TAASIR HINDI ENGLISH URDU NEWS NETWORK

About the author

Taasir Newspaper

Taasir Newspaper