MADHYA PARDESH

उज्जैन: खाचरौद में 30 साल बाद मुस्लिम समाज ईद पर एक साथ अदा करेगा नमाज

Taasir Newspaper
Written by Taasir Newspaper
TAASIR HINDI NEWS NETWORK ANWAR   

खाचरौ, 02 मई 

उज्जैन जिले के खाचरौद शहर में ईद पर्व पर ईदगाह मजिस्द में नमाज पढऩे को लेकर 30 साल से चला आ रहा विवाद का निराकरण हो गया।

मंगलवार को मनाई जा रहा ईद पर्व इस बार खाचरौद जिला उज्जैन के मुस्लिम समाज के लिए खुशियां लेकर आया।

बता दें कि समाज के वरिष्टों की समझाईश के बाद शहर काजी के पद पर आसीन दो अलग-अलग गुट में सुलह हो गई और मंगलवार को ईद पर दोनों काजी समाजजनों के साथ मिलकर नमाज अदा करेगें।

विवाद का निराकरण होन से प्रशासन ने भी राहत कि सांस ली है। नमाज के पर्व दोनों काजी डॉ सैय्यद उरुज अहमद व गुलजार मोइनउद्दीन समाजजनों के साथ जुलूस के रुप में ईदगाह मस्जिद में पहुंचेगे और ईद की नमाज अदा करेगें।

समाज के वरिष्ट व मुस्लिम मसाईल कमटी अध्यक्ष मोहम्मद सादिक शाह अभिभाषक ने हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि मदीना मजिस्द सात सवार में कमेटी व समाज के वरिष्टजनों की एक बैठक आयोजित कि गई थी।

जिसमेें आपसी सहमति से विवाद का निराकरण किया गया।

30 साल से चल रहा था विवाद

वर्ष 1988 को तात्कालीन शहर काजी का देहांत हो गया था। उस समय उनके पुत्र गुलाजर अली नाबालिक थे।

जिसके चलते शहर काजी तात्कालीन काजी के भाई सैय्यद अब्दुल माजिद को बनाया गया था। कुछ वर्ष बाद 1992 में समाज के कुछ लोग नाराज हुए और उन के द्वारा गुलजार को शहर काजी का दर्जा दिया गया।

इधर मामला न्यायालय में पहुंचा और खाचरौद न्यायालय ने गुलजार के खिलाफ फैसला सुनाते हुए सैय्यद अब्दुल माजिद को शहर काजी माना और उनके द्वारा नमाज अदा कि जाने लगी।

कुछ वर्ष बाद अब्दुल माजिद का भी निधन हो गया तो शहर काजी का पद उनके पुत्र सैय्यद उरुज अहमद को दिया गया। जिससे विवाद और बढ़ गया।

वही खाचरौद न्यायालय के इस फैसले के खिलाफ गुलजार ने उच्च न्यायालय में अपील की जो अभी तक विचारधीन है। इधर समाज में भी दो गुट हो गए और एक गुट गुलजार समर्थकों ने ईदगाह में नमाज अदा करने से मना कर दिया।

तब से समाज के कुछ लोग प्रतिवर्ष ईद पर ईदगाह में नमाज पढऩे नहीं जाते है।

कलेक्टर ने लगाई थी रोक

वर्ष 2018 में प्रकरण में नया मोड़ आया एसडीएम ने सैय्यद उरुज अहमद को नमाज पढऩे के लिए कहा, कुछ दिन बाद ही कलेक्टर ने इस आदेश पर रोक लगा दी।

जिस कारण वर्ष 2018 में ईदगाह में ईद पर नमाज अदा नहीं कि गई। तब से अभी तक ईदगाह में नमाज नहीं पढ़ी जा रही थी।

यह हुआ निर्णय

बैठक में यह निर्णय लिया गया मंगलवार को ईद पर नमाज मेें पुरा मुस्लिज समाज शामिल होगा। ईद की नमाज काजी उरुज अहमद द्वारा अदा करवाई जाएगी।

वही काजी गुलजार द्वारा नमाज का खुतबा पड़ा जावेगा। इसी प्रकार दो माह बाद आने वाली ईदुल अज़हा की नमाज काजी गुलजार द्वारा पढ़ाई जाएगी जबकि नमाज का काजी उरुज अहमद द्वारा खुतबा पड़ा जावेगा।

 

TAASIR HINDI ENGLISH URDU NEWS NETWORK

About the author

Taasir Newspaper

Taasir Newspaper